सोमवार, 21 दिसंबर 2009

संसद में महंगाई पर चर्चा का रहस्य

संसद के अन्दर सांसदों ने महंगाई पर जोर-शोर से चर्चा की उनकी चिंता जनता के प्रति नहीं थी अपितु अपनी सुविधाओं को महंगाई की चर्चा के बहाने बढ़ाना चाहते थे । महंगाई पर चर्चा की और अपनी सुविधाओं में बढ़ोत्तरी कीमंत्री 'वेतन एवं सुविधाएं ( संशोधन ) विधेयक 2009' पास कर लिया। इस विधेयक के अनुसार मंत्री व उनके निकट सम्बन्धी वर्ष भर में 48 मुफ्त हवाई यात्राएं करने का प्राविधान है । एक यात्रा में कितने लोग शामिल हो सकते हैं उसका कोई उल्लेख नहीं किया गया है । यह विधेयक बिना किसी चर्चा के कुछ ही मिनटों में पारित हो गया है । डॉक्टर मनमोहन सिंह के गरीबी हटाओ कार्यक्रम के तहत मंत्रियों को महंगाई से थोड़ी सी राहत प्रदान की गयी है । इससे लगता है कि संसद के सत्रावसान तक सभी सदस्यों को महंगाई से राहत दे दी जाएगी । देश का मजदूर किसान मेहनतकश तबका महंगाई से भूखो मर जाये, हमारे राजनेता सुखी रहे उनसे यह उम्मीद करना कि वह जनमुखी कोई कार्य करेंगे ? देशी कहावत है कि ' अँधा बाँटें रेवड़ी, घरो घराना खाए ' । केन्द्रीय मंत्री मंडल के काफी सदस्य विभिन्न राजा महाराजों के पोते परपोते हैं उनके बाप दादा ब्रिटिश साम्राज्यवाद के प्रतिनिधि थे और भारत को गुलाम बनाये रखना चाहते थे जब वह ब्रिटिश साम्राज्यवाद की तरफ से शासन करते थे तो जनता से टैक्स वसूलने के मद इस प्रकार थे कि आज राजा के लड़का हुआ रुपया दो , आज राजा के कुत्ते की शादी है उसके खर्चे के लिए टैक्स दो , राजा कार खरीद लाए हैं उसके लिए पैसा दो। कुल मिलाकर ये पुराने राजे-रजवाड़े मेहनतकश जनता की कमाई को किसी न किसी प्रकार, किसी न किसी तरीके से हड़प लेते थे। आज स्वरूप बदला है चरित्र वही है ।

सुमन
blog comments powered by Disqus

लोक वेब मीडिया टीम

मुख्य सलाहकार - मुहम्मद शुऐब
मोबाइल
-09415012666
संपादक -तारिक खान
मोबाइल
-09455804309
प्रबंध संपादक -रणधीर सिंह सुमन
मोबाइल
-09450195427
उपसंपादक - पुष्पेन्द्र कुमार सिंह
मोबाइल
-09838803754

subscribe

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Loksangharsh Patrika

Loksangharsh Patrika

 

Template by NdyTeeN