बुधवार, 24 नवंबर 2010

क्रान्ति हरदम अपमान की गोद से पैदा होती है-अमर सिंह

बाराबंकी। क्रान्ति हरदम अपमान की गोद से पैदा होती है यदि द्रोपदी का चीरहरण न हुआ होता तो महाभारत न होती, दक्षिण अफ्रीका मे यदि गांधी का अपमान न होता,तो गांधी के मन में अंग्रेज को भारत से निकालने की चेतना न जागी होती। मैं भी बड़े बेआबरु होकर समाजवादी पार्टी से निकाला गया। मैं परेशान तो हुआ परन्तु परास्त नही। 2012 चुनाव में उ0प्र0 में हमारा मिशन है कि ताकत पिछड़ो व मुसलमानो के हाथो में आए और उसकी चाभी क्षत्रियों के हाथ मे हो।
 समाजवादी पार्टी के पूर्व महासचिव तथा पार्टी से निष्कासित किए जाने के पश्चात अपनी नई पार्टी लोक मंच का गठन करने के पश्चात जनपद में अपने प्रथम आगमन पर लोक मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर अमर सिंह आज अपरान्ह राजकीय इण्टर कालेज के मैदान मे आयोजित पिछड़ा वर्ग स्वाभिमान सम्मेलन के मुख्य अतिथि के रुप में अपने सम्बोधन के दौरान उक्त विचार उपस्थित अपार समूह के बीच रख रहे थे।
 श्री सिंह द्वारा अपेक्षा से अधिक जनसमूह को देखकर अतिउत्साहित भाव में अपने भाषण का आगाज किया गया। प्रारम्भ में ही उन्होने अपने तरकश का पहला तीर मुलायम सिंह के ऊपर चलाते हुए कहा कि उन्होने अपने तन मन धन से पूरी ईमानदारी के साथ बावजूद अपने बिगड़ते स्वास्थ्य के मुलायम सिंह का साथ निभाया उन्हे सदैव अपना बड़ा भाई और नेता माना परन्तु बदले में उन्होने उन्हे उस समय अपमानित करके बड़ा आघात दिया जब वह रोग शैय्या पर लेटे थे। मुलायम सिंह के परिवार के प्रति प्रेम की पोल खोलते हुए उन्होने कहा कि वह राष्ट्रीय अध्यक्ष, उनके भाई शिव पाल यादव नेता विरोधी दल, बेटा प्रदेश अध्यक्ष, भाई राम गोपाल यादव लोक सभा में पार्टी अध्यक्ष,भतीजा धर्मेन्द्र यादव यूथ ब्रिगेड अध्यक्ष बचे ज्ञानेश्वर मिश्र और अमर सिंह एक को राम ले गए दूसरे को राम गोपाल।
 आजम खाॅ पर प्रहार करते हुए उन्होने कहा कि वह अपने को कायदे आजम समझने लगे है। कंाग्रेस यदि उन्हे प्रधानमंत्री का पद आफर करे तो वह कांग्रेस में चले जाएंगे उन्हे कल्याण सिंह उस समय बुरे नही लगे जब उनका पुत्र राजवीर सिंह उनके साथ मंत्रिमण्डल मंे था और जब पार्टी में शिव पाल यादव का कद उनसे अधिक बढा तो उन्हे मुलायम व कल्याण की दोस्ती मुसलमानो के हितो के विरुद्ध नजर आने लगी। उन्होने आजम खाॅ की सपा में वापसी पर व्यंग्य करते हुए कहा कि मुलायम यदि इस कायदे आजम को वजीर ए आला तो शायद सबसे अधिक प्रसन्नता उन्हे होगी। लेकिन वजीर ए आला तो  दूर की बात आजम खाॅ के लिए शिव पाल को हटाकर नेता विधान मण्डल ही बनना मुश्किल है।
 सपा में अपने घोर विरोधी बेनी प्रसाद वर्मा के प्रति नरम रवैया अख्तियार करते हुए श्री अमर सिंह ने कहा कि वह बेनी वर्मा का बहुत आदर व सम्मान करते है उन्हे बेनी से लड़ाने का कार्य इसलिए किया गया कि अगड़े व पिछड़े एक न होने पाए। बेनी की समझ पर व्यंग्य करते हुए उन्होने कहा कि वह सदैव यह कहते रहे कि हमारा तुम्हारा झगड़ा अरविन्द सिंह गोप के कारण है।
 समाजवादी पार्टी में अपने सबसे निकटतम जिन्हे वह अपना छोटा भाई कहते हुए नही थकते थे अरविन्द सिंह गोप को भी उन्होने आज नही बख्शा। श्री सिंह ने गोप को याद दिलाया कि उन्हे कानपुर याद जहाॅ वह टिकट न मिलने के कारण रो रहे थे हमने उन्हे ढाढस दी उंगली पकड़कर चलाया टिकट दिलाया चुनाव मंे जिताया और मंत्री बनाया। परन्तु जब हम पर मुसीबत पड़ी तो वह मुलायम चालीसा पढते नजर आए। उन्होने अपने विशेष अंदाज ए बयाॅ में एक शेर अरविन्द सिंह गोप के लिए पढा-मेरे बाद वफा का धोखा मत और किसी को देनाः, लोग करेंगे जब जिक्र तेरा तो सिर मेरा झुक जाएगा।
 मुसलमानो को सम्बोधित करते हुए कहा कि मुलायम सिंह ने सदैव उनका इस्तेमाल किया है तीन बार के मुलायम राज्य में मुल्ला मुलायम बताए कि उन्होने कितने कुरैशी और कितने अंसारी लोगो को नौकरियाॅ दी है। इसके विपरीत चन्द्र बाबू नायडू पर जब आंध्र प्रदेश के मुसलमानो ने कांगे्रस छोड़कर विश्वास किया तो उन्होने मुसलमानो को अपने राज्य में हजारो की संख्या में नौकरियाॅ दी।
  मुलायम के समाज वाद पर हल्ला बोल करते हुए अमर सिंह ने कहा कि वह अंगे्रजी के विरुद्ध है परन्तु अपने एक बेटे को आस्ट्रेलिया पढने के लिए भेजा और दूसरे को लंदन में। केवल देसी शिक्षा की बात वह प्रदेश की आम जनता के लिए  करते है अपने लिए नही।  कम्प्यूटर की मुलायम सिंह मुखालफत करते है जब कि उनका बड़ा बेटा अखिलेश फेस बुक पर चैटिंग करता है ब्लाग राइटिंग करता है। परन्तु आम जनमानस के लिए उपयोगी, इस यंत्र को वह आम जनता से दूर रखना चाहते है।
 अपने पूर्वान्चल प्रदेश के एजेण्डे पर लौटते हुए उन्होने कहा कि आगामी 1 दिसम्बर से वह 450कि0मी0 की पूर्वान्चल स्वाभिमान यात्रा का शुभारम्भ उस स्थान से कर रहे है जहाॅ गणपति बप्पा मोरया के बप्पा का निवास है। उन्होने अपने विशेष अंदाज में बाल ठाकरे, उद्धव ठाकरे व राज ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा कि यह लोग बात तो राम मन्दिर की करते है परन्तु राम की नगरी के बाशिन्दो को भैया कहकर उनकी पिटाई करते है। नारा तो महाराष्ट्र में गणपति बप्पा मोरया का लगता है परन्तु भगवान गणेश के पिता श्री भगवान शिव की नगरी काशी के निवासियो को महाराष्ट्र से बाहर खदेड़ने का नारा लगाते है।
 पूर्वान्चल की यात्रा का जिक्र करते हुए श्री सिंह ने कहा कि उन्होने पूर्वान्चल के लोगो के अंदर विकास के प्रति जागरुकता लाने के उददेश्य से यह कार्यक्रम बनाया है जिसके विरोध में मुलायम सिंह ने यह कहा है कि वह एक भाषण देेंगे और पूर्वान्चल से अमर सिंह को साफ कर देंगे। उन्होने चुनौती देते हुए मुलायम सिह से कहा कि वह आए और अपने बाहुबल के द्वारा पूर्वान्चल के लोगो में अपने क्षेत्र के विकास के लिए जो अलख जगी है उसे बुझाकर तो देखे। वह पहलवान आदमी है बहुत धोबी पाटा उन्होने मारा है जरा एक जोर पूर्वान्चल में भी लगाकर देखे।
 रैली में अंतिम भाषण फिल्मी हीरो संजय दत्त उर्फ मुन्ना भाई एम0बी0बी0एस0 का हुआ जिसका आगाज संजय ने जन समूह को मामू कहकर सम्बोधित करते हुए अपार तालियाॅ बटोरी। संजय ने कहा कि वह अमर सिंह को अपना बड़ा भाई मानते है वह उनके साथ एक भाई की तरह है नेता की तरह नही। वर्तमान राजनीति पर अपने फिल्मी अंदाज में व्यंग्य कसते हुए उन्होने कहा कि हम फिल्म इण्डस्ट्री के लोग अकसर एक दूसरे का विरोध करते है बोलचाल भी बंद हो जाती है परन्तु जब कभी फिल्म उद्योग के हितो का प्रश्न उठता है अथवा देश में कभी किसी प्रकार की विषम परिस्थितियाॅ उत्नन्न होती है तो पूरी फिल्म इण्डस्ट्री एक आवाज में खड़ी हो जाती है। एक दूसरे के साथ हम धोखेबाजी नही करते। परन्तु राजनीति में आलम यह है कि हर कोई एक दूसरे को धोखा दे रहा है।
 इससे पूर्व सम्मेलन में अपने विचार रखते हुए उबैद उल्ला आजमी ने कहा कि मुल्क में मुटठी भर लोगो का राज है और वह बिगत 63 वर्षो से पिछड़ो, अल्पसंख्यको व दबे कुचले वर्ग के लोगो का शोषण करते आए है। देश की वर्तमान स्थिति पर उन्होने अपना असंतोष का इजहार करते हुए कहा कि आज देश में 50 प्रतिशत लोग भुखमरी के शिकार है थोड़े लोगो के पास बहुत पैसा है शेष 85 प्रतिशत लोग तबाही की कगार पर खड़े है। उन्होने अमर सिंह के द्वारा पिछड़ो अल्पसंख्यको व अन्य शोषित समाज के लोगो के हित में जो प्रयास किए जा रहे है उनकी प्रशंसा करते हुए कहा कि श्री सिंह ने जिस जवाॅ मर्दी से मौत के मुॅह से अपने को निकाला है वह अपने प्रयासो में सफल अवश्य होंगे।
 सम्मेलन में अमर सिंह के अनुज एवं प्रदेश प्रभारी अरविन्द सिंह वरिष्ठ उपाध्यक्ष बृजेन्द्र सिंह, प्रदेश अध्यक्ष अमर सिंह यूथ ब्रिगेड रंजीत यादव, प्रदेश युवा लोक मंच अध्यक्ष देवेन्द्र सिंह राव तथा लोक मंच के प्रदेश अध्यक्ष योगेन्द्र चैहान ने भी अपने विचार व्यक्त किए।
 कार्यक्रम के संयोजक व लोक मंच पार्टी के प्रदेश सचिव जंग बहादुर वर्मा व जिलाध्यक्ष धीरेन्द्र सिंह द्वारा रैली में अपार समूह जुटाने के उनके प्रयासो की प्रशंसा मंच पर उपस्थित अधिकांश वक्ताओ ने की।

 

blog comments powered by Disqus

लोक वेब मीडिया टीम

मुख्य सलाहकार - मुहम्मद शुऐब
मोबाइल
-09415012666
संपादक -तारिक खान
मोबाइल
-09455804309
प्रबंध संपादक -रणधीर सिंह सुमन
मोबाइल
-09450195427
उपसंपादक - पुष्पेन्द्र कुमार सिंह
मोबाइल
-09838803754

subscribe

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Loksangharsh Patrika

Loksangharsh Patrika

 

Template by NdyTeeN