शनिवार, 22 अक्तूबर 2011

हर छह में से एक अमरीकी ग़रीबी से त्रस्त



बेरोज़गार

अमरीका में बेरोज़गारी की दर लगातार नौ फीसदी से ऊपर बनी हुई है.

दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देश अमरीका में जारी किए गए आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक अमरीका में गरीबी में रह रहे लोगों की संख्या चार करोड़ 62 लाख के रिकार्ड स्तर तक पहुंच चुकी है.

आंकड़ों के मुताबिक हर छह में से एक अमरीकी ग़रीबी से त्रस्त है.

अमरीका के जनगणना ब्यूरो की ओर से इक्ट्ठा किए गए 1959 से अब के आंकड़ों में यह संख्या सबसे ज़्यादा है.

आंकड़ों कहते हैं कि 2009 में ग़रीबी का स्तर जहां 14.3 फीसदी था वहीं 2011 में यह 15.1 फीसदी हो गया है.

बेरोज़गारी की दर

"बैंक ऑफ़ अमरीका ने कहा है कि वो तीस हज़ार नौकरियों की कटौती करने जा रहा है. अगले कुछ सालों में नौकरी में होनेवाली ये कमी, ख़र्च में कटौती की योजना का हिस्सा है."

अमरीकी परिभाषा के मुताबिक 22,314 डॉलर सालाना से कम की आय वाले चार लोगों के परिवार और 11,139 डॉलर सालाना से कम की आय वाले एकल व्यक्ति को ग़रीब की श्रेणी में रखा जाता है.

ग़रीबी के स्तर में ये बढ़ोत्तरी जहां 1993 से अब तक की सबसे बढ़ी बढ़ोत्तरी है वहीं पिछले लगातार चार साल से गरीवों की संख्या में बढ़ोत्तरी जारी है.

जनगणना ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक 2010 में ही एक अमरीकी घर की औसत सालाना आय 2.3 फीसदी की दर से गिरते हुए 49,445 तक पहुंच गई थी.

अमरीका की खस्ताहाल अर्थव्यवस्था को दिखाते ये आंकड़े उस समय आए हैं जब अमरीका में बेरोज़गारी की दर लगातार नौ फीसदी से ऊपर बनी हुई है.

इससे पहले मंगलवार को बैंक ऑफ़ अमरीका ने कहा कि वो तीस हज़ार नौकरियों की कटौती करने जा रहा है.

अगले कुछ सालों में नौकरी में होनेवाली ये कमी ख़र्च कटौती योजना का हिस्सा है. ये कमी बैंक के कुल कामगारों के तादाद का 10 प्रतिशत है.

नौकरी में कटौती की बैंक की घोषणा उसी दिन आई है जिस दिन राष्ट्रपति बराक ओबामा ने देश में रोज़गार को बढ़ावा देने के लिए 447 अरब अमरीकी डॉलर की योजना कांग्रेस को भेजी.

blog comments powered by Disqus

लोक वेब मीडिया टीम

मुख्य सलाहकार - मुहम्मद शुऐब
मोबाइल
-09415012666
संपादक -तारिक खान
मोबाइल
-09455804309
प्रबंध संपादक -रणधीर सिंह सुमन
मोबाइल
-09450195427
उपसंपादक - पुष्पेन्द्र कुमार सिंह
मोबाइल
-09838803754

subscribe

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Loksangharsh Patrika

Loksangharsh Patrika

 

Template by NdyTeeN