शुक्रवार, 3 अक्तूबर 2014

राजेश कुमार श्रीवास्तव पुलिस उपाधीक्षक -------------गवाह ------------8------जारी--7

Page-----(52)
                    PW 8
                    15-02-2013
ST No. 310/2008

सरकार व खालिद मुजाहिद आदि
 
जिरह जारी दिनांक 04.01.2013 से आगे
गवाह राजेश कुमार श्रीवास्तव ने आज दिनांक
15.02.2013 को सशपथ बयान किया कि मैंने
विवेचना के अन्तर्गत बशीर अहमद उर्फ हैजाजी
का पता मालूम किया था। बशीर अहमद उर्फ
हैजाजी पुत्र हबीबुल्ला मीर निवासी ग्राम कुछल
थाना छतर जनपद किश्तवाड़ जम्मू एण्ड कश्मीर
उसका पता था। बशीर अहमद कोड उर्फ हैजाजी
के हूजी के सदस्य होने के सम्बंध में सूचना
मु0अ0सं0 2/2008 थाना सीपी जनपद किश्तवाड़
में पंजीकृत एफ0आई0आर0 तथा माननीय न्ययालय
को प्रेषित पुलिस रिपोर्ट में की गई थी एवं
पुलिस अधीक्षक किश्वतवाड़ द्वारा इसकी पुष्टि भी
की गई थी। उक्त अभियोग की प्रथम सूचना रिपोर्ट
एवं पुलिस रिपोर्ट की सत्यापित प्रति मेरे द्वारा
न्यायालय में दाखिल की गई है।
प्र0-    हूजी के सदस्यता रजिस्टर, संगठन प्रमाण पत्र,
    कार्यालय का पता आदि का कोई प्रमाण
    आपको प्राप्त हुआ था या नही।
उ0-    हूजी एक प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है जिसको
    भारत सरकार द्वारा अधिसूचना के माध्यम
    से कार्य कलापों व क्रिया कलापों को
    पूर्णतया निषिध किया गया है। अतः उसके
    कार्यालय का कोई पता उपलब्ध नही है
    हूजी का सदस्यता रजिस्टर, आई कार्ड आदि
    कोई भी अभिलेख मेरे द्वारा प्राप्त नहीं किया
    गया।
        मुझे इसका ज्ञान नही है, कि हूजी पर
Page----- (53)
                    PW 8
                    15-02-2013
ST No. 310/2008


प्रतिबंध लगने से पूर्व उसके कार्यालय का पता
सदस्यता रजिस्टर आदि उपलब्ध था या नही।
इस केस से मुख्तार उर्फ राजू का कोई सम्बंध
नही है। जहां तक विवेचना में कतिपय स्थानों
पर उस नाम का उल्लेख है उसका सम्बंध
मु0अ0स0 899/07 थाना कैन्ट जनपद
वाराणसी से है जो हूजी का एक सक्रिय
सदस्य रहा। प्रथम सूचना रिपोर्ट के पृष्ठ सं0 1
तथा पंक्ति सं0 4 में पंक्ति सं0 13 के मध्य के अंश
अभियुक्तों के कथन का भाग नही है यह
सत्य है। इस विवेचना के सम्बंध में की गई
जांच भारत सरकार की संवैधानिक संस्थाओं
पर सुनियोजित ढंग से आक्रमण की जांच थी
जिसके सम्बंध में भारत सरकार की सबसे
महत्वपूर्ण संवैधानिक संस्था न्याय पालिका पर
किये गये आक्रमण की जांच गठित की गई
थी अतः यह जांच पूर्णतया भारत सरकार के
विरूद्ध आक्रमण की जांच थी, न कि तत्कालीन
सत्तारूढ़ दल के विरूद्ध किये गये आक्रमण
की जांच थी। अतः यह कहना असत्य है कि
यह जांच तत्कालीन सत्तारूढ़ दल के विरूद्ध
आक्रमण के रूप में विवेचित की गई। जिन
धाराओं के अन्तर्गत अभियुक्तगण के विरूद्ध
आरोप पत्र प्रेषित किया गया है उनके
अन्तर्गत वाद चलाये जाने हेतु सक्षम
प्राधिकारी उत्तर प्रदेश शसन है अतः उनसे
अनुमति ली गई। भारत सरकार से पृथक
अनुमति लेने की कोई आवश्यकता नही थी
प्र0-    भारत सरकार से अनुमति नहीं ली थी
उ0    मैंने इसका उत्तर पूर्व में दे दिया है।
Page----- (54)
                 PW 8
                    15-02-2013
ST No. 310/2008


उत्तर प्रदेश राज्यपाल महोदय से अनुमति के लिए मेरे
द्वारा कोई लिखा पढ़ी नही की गई थी। उत्तर प्रदेश
सचिवालय में सचिव गृह श्री महेश कुमार गुप्ता के
कार्यालय में मैं नही गया था। प्रदर्श क-21 पर
श्री राज्यपाल की ओर से लिखा है। प्रदर्श क-21
पर माननीय राज्यपाल महोदय की कोई नोटिंग
नही है। प्रदर्श क-21 को देखकर मैं यह नही बता
सकता कि उसमें माननीय राज्यपाल महोदय, द्वारा
पारित आदेश का कोई विवरण है या नही।
प्रदर्श क-21 पर आज्ञा से सर्वेश चन्द्र मिश्रा विशेष सचिव
अंकित है। मैं यह नहीं बता सकता कि प्रदर्शक-21
पर अंकित मुद्रण टाइप राइटर से किया गया है
या किसी अन्य इलेक्ट्रानिक माध्यम से अंकित
किया गया है। आई0एम0ई0आई0 नं. 355655007210640 से
16.12.07 को अंतिम काल सिम नं0 9451253363 से
17 बजकर 7 मिनट 46 सेकण्ड की है जिसकी काल अवधि
2 मिनट की है। उक्त आईएमईआई नं. पर सिम नं. 9889810588
पर अंतिम काल एसएमएस प्राप्त सेवा अंकित है जिसका
समय 12 घण्टा 58 मिनट 29 सेकेण्ड पी0एम0 अंकित है
यह काल की लोकेशन को उक्त पत्र देख कर मेरे
द्वारा नहीं बताया जा सकता। यह SMS termi
nating 5676738  से किया गया है। 16.12.07
को 8.16 बजे इसी IMEI  से सिम नं0 9889810588
द्वारा सिम नं. 9936679066 पर काॅल की गई है।
काल करने वाले को मैंने जानने की कोशिश
नही की। इसी IMEI से 17.12.07 को सिम नं0.
9889810588 पर पांच SMS जिनके नम्बर
क्रमशः 216465614672657368, 446961665727
46ए 44696166572746ए 3533313331 तथा 426 से
की गई उनके लोकेशन कहां थे यह मैं उक्त पत्र
को देखकर नहीं बता सकता। उनके लोकेशन
  Page-----  (55)
                   PW 8
                    15-02-2013

गिरफ्तारी के पूर्व की स्थिति के थे तथा ैडै थे
अतः तथ्यहीन होने के कारण मैंने मालूम
करने की कोशिश नही की। काल नही थी ैडै थे
18.12.07 को उक्त IMEI  से सिम नं. 98898
10588 द्वारा सात काल की गई हैं। उक्त काल
क्रमशः Mobile No.  09793590269ए 09450084200ए
09793590264ए 09906753203ए 09450084200
09450084200 एवं 09906753203 पर की
गई है। सिम नं. 9889810588 idea  का सिम है
जिसके धारक की कैफ customer address form मेरे द्वारा
मांगी गई थी जिसके मालिक का नाम सन्तराम पुत्र
पंचमराम ग्राम सराय कालीदास पोस्ट मडि़यांव
जनपद जौनपुर है इसके अतिरिक्त सिम नं0
9450084200 स्वयं खालिद मुजाहिद के रिश्तेदार
जमीर मुजाहिद का है। सिम नं0 9906753203 जो
बशीर अहमद उर्फ हैजाजी के पास से बरामद
किया गया था।
           to be continued on next
            date.
                सु0त0कि0



blog comments powered by Disqus

लोक वेब मीडिया टीम

मुख्य सलाहकार - मुहम्मद शुऐब
मोबाइल
-09415012666
संपादक -तारिक खान
मोबाइल
-09455804309
प्रबंध संपादक -रणधीर सिंह सुमन
मोबाइल
-09450195427
उपसंपादक - पुष्पेन्द्र कुमार सिंह
मोबाइल
-09838803754

subscribe

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Loksangharsh Patrika

Loksangharsh Patrika

 

Template by NdyTeeN